कॉलेज मुशायरे में गूंजी एक ग़ज़ल, जो 91 साल बाद भी लोगों को याद है

by Jamshed Qamar Siddiqui