कविता – तुम कितना कुछ चाहती थी और मैं चाहता था केवल तुम्हें

by Deepak Upadhyay